facebook pixel
chevron_right Top
transparent
राष्ट्रपति की मंजिल छूने तक प्रणब ने शिखर से शून्य का दौर भी देखा
राष्ट्रपति की वैसे तो शासन के संचालन में अपनी सीमित भूमिका है मगर कुछ ऐसे विशेषाधिकार हैं जो संवैधानिक प्रमुख होने के नाते केवल वे ही कर सकते हैं। संजय मिश्र, नई दिल्ली। देश की समकालीन सत्ता सियासत में 'लिविंग इनसाक्लोपीडिया' माने जाने वाले प्रणव मुखर्जी ने इतिहास और विरासत की अपनी बौद्धिक संपदा के सहारे राष्ट्रपति भवन में भी अपनी अमिट छाप छोड़ी है।

Want to stay updated ?

x

Download our Android app and stay updated with the latest happenings!!!


50K+ people are using this