facebook pixel
chevron_right Health
transparent
ZEE जानकारीः हमारे देश में योग दिवस हिंदी या पर्यावरण दिवस की तरह औपचारिकता तो नहीं?
लेकिन कहीं हमारे देश में योग दिवस भी हिंदी दिवस या पर्यावरण दिवस की तरह सिर्फ एक दिन की औपचारिकता तो नहीं है। सन 1893 में अमेरिका के शिकागो में स्वामी विवेकानंद ने विश्व धर्म संसद से पूरे अमेरिका को योग के बारे में बताया था.अमेरिका योग के बारे में जान तो गया था, लेकिन अमेरिका में योग को लोकप्रिय बनाने का काम। आज अमेरिका की अर्थव्यस्था में योग का बहुत बड़ा योगदान है। ये अमेरिका के मुकाबले बहुत कम है।
Working Women: है समय की कमी, इस तरह दें खुद के लुक्स पर ध्यान
एक मां के लिए ऑफिस और घर एक साथ संभाल पाना काफी मुश्किल भरा होता है। ऐसे में वे न तो अपनी फिटनेस पर ध्यान दे पाती हैं और न ही डाइट पर। लेकिन अगर आपको ये पता लगे कि ऑफिस की भाग-दौड़ के साथ आप हेल्दी इटिंग और एक्सरसाइज पर ध्यान दे सकती हैं तो कैसे लगेगा? आज हम आपको कुछ ऐसी ही टाइम सेविंग टिप्स देने जा रहे हैं जिसे अपनाकर आप लाइफ को काफी आसानी से हैंडल कर सकती हैं।
ये 10 लक्षण हो सकते हैं टाइप-2 डायबिटीज के संकेत
बार-बार और ज्यादा प्यास लगती है?। ज्यादा भूख लगती है, खासकर खाना खाने के बाद भी? मुंह में अकसर सूखापन महसूस होता है?। बार-बार यूरिन जाने की जरूरत लगती है। वजन तेजी से बढ़ा या कम हो गया है। बेहोशी या कमजोरी महसूस करते हैं। नजर लगातार कमजोर हो रही है। हाथ-पैर सुन्न हो जाते हैं। त्वचा और जनांगों में जल्‍दी-जल्‍दी संक्रमण होता है। कोई चोट या घाव जल्‍दी ठीक नहीं होता। आज ही जांच करवाएं।
बच्चों का कद बढ़ाने में मददगार होगा योग
व्यक्तित्व को निखारने में लंबाई की अहम भूमिका होती है। अक्सर कम लंबाई वाले लोग काफी शर्मिंदगी महसूस करते हैं। आमतौर पर बच्‍चे अपनी किशोरावस्‍था अवधि के अंतिम चरण तक अपनी अधिकतम ऊंचाई तक पहुंच जाते हैं। इसके अलावा योग आपकी शरीर मुद्रा को सही कर लंबाई को परोक्ष रूप से प्रभावित करता है। योग समग्र स्वास्थ्य और शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है।
Weight Loss: 10 फूड्स जो बनाएंगे मेटाबॉलिज्म मजबूत, घटाएंगे वज़न
जो लोग वजन घटाने का प्लान कर रहे हैं वे सबसे पहले अपना मेटाबॉलिज्म मजबूत करने पर ध्यान दें। आपकी बॉडी कितनी तेजी से फैट बर्न करती है ये कई बातों पर निर्भर करता है। स्ट्रॉन्ग मेटाबॉलिज्म काफी तेजी से वजन घटाने में मदद करता है। महिलाओं के मुकाबले पुरुष ज्यादा तेजी से कैलोरी बर्न करते हैं। कई लोगों में 40 की उम्र के बाद उनका मेटाबॉलिज्म कमजोर हो जाता है।
#काम की बात : मास्‍टरबेशन कोई बीमारी नहीं है, लेकिन लत किसी भी चीज की बुरी है
यह कोई बुरी बात भी नहीं है, इसलिए इसे लेकर अपने मन में कोई अपराध बोध पालने की जरूरत नहीं है। यहां यह समझना जरूरी है कि मास्‍टरबेशन अपने आप में तो कोई बीमारी नहीं है, लेकिन लत किसी भी चीज की अच्‍छी नहीं होती। जैसे सिगरेट, शराब, चाय, कॉफी की लत अच्‍छी नहीं है, वैसे ही अगर हस्‍तमैथुन भी लत में बदल जाए तो यह सही संकेत नहीं है।
पीरियड हो या वजाइना डिस्‍चार्ज, महिलाओं के ल‍िए बहुत काम की चीज है पैंटीलाइनर्स
वजाइना डिस्‍चार्ज या पीरियड में अ‍त्‍यधिक ब्‍लीडिंग के दौरान पैंटी को बचाने के ल‍िए पैंटी लाइनर्स की जरुरत पड़ती है। हाइजीन के ल‍िए प्रत्येक 4 घंटे के अंदर आप पैंटी लाइनर्स को बदलती रहेंगी, तो इससे आप महावारी के समय आरामदायक और ताज़ा महसूस करेंगी। इन्हें खासतौर पर पर्सनल हाईजीन और वजाइनल डिस्‍चार्ज को अवशोषित करने के लिए खासतौर पर डिजाइन किया गया है।
Bhavna's Kitchen, 20 करोड़ लोग देखते हैं यू-ट्यूब पर इनकी रेसिपीज
यू-ट्यूब पर Bhavna's Kitchen पर क्लिक करके देखिए, 208 मिलियन यानी 20 करोड़ से ज्‍यादा लोग उन्‍हें फॉलो करते हैं। भावना का कहना है कि खाने के शौकीनों के लिए अपने वजन पर नियंत्रण रख पाना थोड़ा मु‍श्किल होता है। लेकिन स्‍वस्‍थ रहने के लिए यह कतई जरूरी नहीं कि आपको अपने स्‍वाद की इंद्रियों पर नियंत्रण करना पड़े। यू - ट्यूब कैसे बना पैसे कमाने का जरिया।
क्‍यों आ जाती है अचानक से नसों में सूजन? जानिए कारण
कभी कभी आपने देखा होगा कि हाथ और पैरो में दर्द की वजह से अचानक से नसों में सूजन दिखने लगती है। इस स्थिति में हाथ और पांव में सूजन, फैलाव, अतिरिक्त खून से भर जाना आदि होता है। वेरिकोस वेन न सिर्फ दर्दभरा होता है बल्कि अंग विशेष का रंग नीला या लाल भी हो जाता है। सामान्यतः वेरिकोस वेन होने पर अंग में सूजन ही देखने को मिलती है।
मस्तिष्‍क को शांति देते हैं ये योगासन
हर कोई अपने जीवन में शांति और सुकून चाहता है। इन दो चीज़ों से कोई भी व्यक्ति एक बेहतर इंसान बन सकता है और खुद को ईश्‍वर के करीब पा सकता है। ऐसे कई योगासन हैं जिनकी मदद से आपके दिमाग को शांति और सुकून मिलेगा। तो चलिए जानते हैं उन योगासनों के बारे में जो मन को शांति देते हैं। ब्रिज पोज़ मानसिक शांति के लिए आप ये योगासन कर सकते हैं।
इन योगासनों से बढ़ती है एकाग्रता की शक्‍ति
दवाओं या काउंसलिंग की जगह योग द्वारा भी एकाग्रता को प्राप्‍त किया जा सकता है। आज हम आपको ऐसे कुछ योगासनों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनसे एकाग्रता बढ़ती है। ऑल्‍टरनेट नॉस्ट्रिल ब्रीथिंग (अनुलोम विलोम प्राणायाम) इस योगासन द्वारा भी ध्‍यान केंद्रित करने की क्षमता बढ़ाई जा सकती है। इससे ध्‍यान केंद्रित करने की क्षमता बढ़ती है और दिमाग तेज़ होता है। इस बात में कोई दो राय नहीं है कि हर क्षेत्र में सफलता पाने के लिए एकाग्रता बहुत ज़रूरी है।
रोज खाएं 2-3 गुलाब की पत्तियां, दिल रहेगा दुरुस्त
जितना गुलाब जल हमारी सेहत के लिए फायदेमंद होता है उतना ही गुलाब की पत्तियां लाभकारी होती हैं। गुलाब की पत्तियों से गुलकंद तैयार किया जाता है जिसके सेवन से आप शरीर के कई रोगों से छुटकारा पा सकते हैं। इसमें मौजूद फ्लेवोनॉइड्स, बायोफ्लेवोनॉइड्स, साइट्रिक एसिड, फ्रक्टोज, मैलिक एसिड, टैनिन और जिंक हमारे दिल के लिए काफी फायदेमंद होता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस तरह गुलाब की पत्तियां आपको स्वास्थ्य संबंधी फायदे दे सकती हैं।
तेजपत्ते का काढ़ा है सेहत के लिए बेस्ट, पैर की मोच में देगा तुंरत आराम
तेजपत्ता गर्म मसालों में एक महत्वपूर्ण मसाला है। इसका इस्तेमाल खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जाता है। तेजपत्ता कई तरह के रोग और शारीरिक परेशानियों में भी फायदेमंद है। इसके तेल में कई औषधीय गुण होते हैं। इनका इस्तेमाल आप एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-फंगल, एंटी-इंफ्लेमेट्री और पेन रिलीविंग बाम और जेल के रूप में कर सकते हैं। तेजपत्ते में कई ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में कारगर हैं।
ड्राई स्किन के लिए फायदेमंद नहीं नारियल का तेल
कहते हैं कि नारियल का तेल स्किन और बालों दोनों के लिए काफी अच्छा होता है। आप इसे खाने में भी शामिल कर सकते हैं। वैसे तो नारियल का तेल सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है लेकिन आज हम आपको इससे होने वाले नुकसान के बारे में बताने जा रहे हैं। नारियल का तेल अकेले ही कई ब्यूटी प्रॉडक्ट्स के बराबर होता है लेकिन वो कहते हैं न कि हर चीज की अति बुरी होती है।
बांई करवट लेकर सोना सेहत के लिए है फायदेमंद
आजकल के बिजी लाइफस्टाइल में हमारा पूरा दिन काम करते हुए गुजर जाता है, इस पूरे दिन में हमारे खान-पान बैठने उठने के तरीके का हमारे स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ता है। सारा दिन काम करने के बाद हम कैसी नींद लेते हैं, वो आरामदायक है या नहीं, हम किस दिशा में सोते हैं इन सबका भी हमारे स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि सोते समय हमें किस बात का ध्यान रखना चाहिए जिससे हम स्वस्थ रह सकें। बांई और करवट लेकर सोने से शरीर में जमा होने वाले टॉक्सिन धीरे-धीरे लसिका तंत्र द्वारा निकल जाते हैं। दरअसल बांई ओर सोने से हमारे लीवर पर किसी प्रकार का कोई दबाव नहीं पड़ता, इसलिए यह टॉक्सिन शरीर से बाह निकलने में सफल हो जाते हैं। इससे हमारे पाचन तंत्र को आराम मिलता है। सोने से पेट और अग्न्याशय खाना पचाने का कार्यआराम से करने लगते हैं। अग्न्याशय से एंजाइम सही समय पर निकलना शुरू होता है। खाया गया भोजन भी आराम से पेट के जरिए नीचे पहुंचता है और आराम से खाना हजम हो जाता है। यदि किसी का हाजमा गड़बड़ रहता है और बदहजमी की शिकायत रहती है, तो उन्हें बांई ओर करवट लेकर ही सोना चाहिए। आप स्वयं इससे मिलने वाले फायदे का अनुभव कर सकेंगे।
सॉफ्टवेयर इंजीनियर से YouTuber तक का सफर, मिलिए Archana's Kitchen की अर्चना से
40 साल की बैंगलुरू स्थित अर्चना ने साल 2007 में लोगों को घर पर टेस्टी खाना बनाने की कला से रू-ब-रू कराया, जो आज तक कायम है। अर्चना ने यूं तो इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है, लेकिन दिल उनका खाना बनाने में रह गया। पढ़ाई इंजीनियरिंग और काम खाना बनाना अर्चना बताती हैं, सॉफ्टवेयर इंजीनियर से लेकर Archana's Kitchen तक की यात्रा काफी मुश्किल थी।
ये फूड नहीं है देसी वियाग्रा से कम, बिना साइडइफेक्‍ट के मर्दों में बढ़ाता है यौनशक्ति
वियाग्रा के फायदों के बारे में तो हर कोई जानता है, इससे पुरुषों में स्‍टेमिना तो बढ़ता है लेकिन ज्‍यादा वियाग्रा के सेवन से कभी कभी इसके साइड इफेक्‍ट भी झेलने पड़ जाते है। अध्ययनों ने साबित किया है कि चुकंदर को रोजाना खाने से आपके शरीर में नाइट्रिक ऑक्‍साइड की मात्रा बढ सकती है। बादाम में मौजूद उच्‍च स्‍तर का फैटी एसिड पुरुषों में यौन क्षमता बढ़ाने वाले हार्मोन्‍स के उत्‍पादन को स्थिर रखता है।
सेंसिटिव दांतों के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय
कई बार कुछ भी ठंडा-गर्म खाने से दांतों में झनझनाहट और तेज दर्द होने लगता है। इसे दांतों की सेंसिटिविटी भी कहा जाता है। अगर इस समस्या पर समय पर ध्यान न दिया जाए, तो इसके कारण दांतों से जुड़ी अन्य समस्याएं भी शुरू होने लगती है। दांतों की जड़ों में छोटी-छोटी नलिकाएं होती हैं जिन्हें ट्यूबल कहा जाता है।
मानसून डाइट: जानिए बारिश में इंफेक्‍शन से बचने के ल‍िए क्‍या खाएं क्‍या नहीं?
मानसून के दौरान, सरसों के तेल, मक्खन या मूंगफली के तेल में बना खाना खाने से बचना चाहिए क्योंकि ये तेल थोड़े भारी होते हैं। पाचनतंत्र को बेहतर रखने के लिए खाने में जैतून का तेल, घी या सूरजमुखी तेल इस्तेमाल करना चाहिए। फिश और प्रॉन्स के लिए मानसून का समय ब्रीडिंग का होता है, तो साल के इन दिनों में सी-फूड से पूरी तरह मुंह मोड़ लें।
रिसर्च: स्वस्थ और लंबे जीवन के लिए चाहिए हर रोज सिर्फ 20 मिनट
अगर आप अपनी व्यस्त दिनचर्या में से हर रोज व्यायाम के लिए केवल 20 मिनट निकाल लें तो आपकी जिंदगी लंबी और स्वस्थ बन सकती है। सैन डिएगो स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया (यूसी) के वैज्ञानिकों ने पाया है कि सीमित और संतुलित मात्रा में व्यायाम सूजन रोकने में मददगार हो सकता है। शोधकर्ताओं के अनुसार, सूजन रोकने के लिए जरूरी नहीं है कि कठिन व्यायाम किया जाए। रोज कसरत के लिए कुछ समय निकालकर शरीर को कई बीमारियों से बचाया जा सकता है।

Want to stay updated ?

x

Download our Android app and stay updated with the latest happenings!!!


90K+ people are using this